कोरोना अपडेट

कुल केस
0
स्वस्थ हुए
0
मौत
0
हर राज्य के कोरोना अपडेट के लिए क्लिक करे

सिर्फ टिकटॉक जैसी ऐप पर बैन से नहीं बनेगी बात,चीन से और भी खतरे

30 Jun, 2020 08:20 AM | R Kumar 13

टिकटॉक दरअसल एक राजनीतिक हथियार है. इसकी ताकत अमेरिका में 20 जून को दिखी जब अमेरिका के लड़कों ने टिकटॉक के जरिए डोनाल्ड ट्रंप की पहली चुनावी रैली को फ्लॉप करा दिया जो टुलसा में हुई थी. दरअसल इसे एक सोशल कम्युनिटी ऐप के रूप में देखा जाता है, जबकि सच्चाई यह है कि ये एक जासूसी एप्प स्पाईवेयर है.



जब ये बात सामने आई तब टिकटॉक की मालिक कंपनी बाइटडान्स ने इसे एक बग बताया और इसका दोष गूगल के पुराने सॉफ्टवेयर पर डाल दिया था.पिछले दिनों इस तरह की कई रिसर्च रिपोर्ट आईं जो बताती है कि टिकटॉक भारत के ज्यादातर iPhone की जासूसी कर चुका है.
टिकटॉक और UC ब्राउजर के अलावा शेयरइट तीसरा सबसे बड़ा एप्प है. दरअसल भारत सरकार की कई एजेंसियों ने समय-समय पर यह सिफारिश की थी कि इन एप्स को बंद किया जाए. जून के पहले हफ्ते में ऐसे 42 एप्प की एक सूची भी बनायी गई थी, लेकिन इस पर एक्शन अब हुआ है.सरकार ने अभी जिन पर रोक लगाई है, वो सब ज्यादातर सोशल मीडिया कमोडिटी प्लेटफॉर्म या वीडियो प्लेटफॉर्म हैं, लेकिन इसके अलावा और भी कई बड़ी टेक कंपनियां हैं, जिनमें भारी चीनी निवेश है.
इनके पास जो भी डेटा है, वो इन्हीं चीनी कंपनियों की संपत्ति है. पेटीएम और जोमेटो ऐसी ही बड़ी कंपनियों में से है. पेटीएम में अलीबाबा का करीब 40 पर्सेंट का निवेश है और जोमेटो में एंट फाइनेंशियल का 15 पर्सेंट.  आने वाले दिनों में ऐसी कंपनियों पर फोकस रहेगा जिनमें अलीबाबा और टेनसेंट जैसी कंपनियों के निवेश हैं.
- चीनी साइबर अटैक को कैसे फेल कर सकता है भारत, समझिए जयदेव रानाडे से

अन्य समाचार