कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:
Live Update: बिहार के हर जिला का कोरोना अपडेट, टीकाकरण और टेस्ट का डाटा देखे

70 में 58 प्रत्याशियों जमानत हो गई जब्त

दोनों बड़े गठबंधन के अधिकृत 10 प्रत्याशियों की जमानत बची नवादा से निर्दलीय श्रवण व वारिसलीगंज से आरती ने जमानत बचाई



जागरण संवाददाता, नवादा : बिहार विधानसभा चुनाव में चुनावी अखाड़े में ताल ठोक रहे 70 प्रत्याशियों में से 58 की जमानत नहीं बची। जिले के सभी पांच विधानसभा क्षेत्रों से दो बड़े गठबंधनों के अधिकृत प्रत्याशियों के अलावा दो निर्दलीय अपनी जमानत बचा सके। जाप, रालोसपा, लोजपा, बसपा आदि पार्टियों के उम्मीदवार चुनाव परिणामों में कहीं लड़ाई में नहीं ठहरे। नवादा सीट से चुनाव लड़ रहे 15 उम्मीदवारों में राजद की विभा देवी, जदयू के कौशल यादव और निर्दलीय श्रवण कुमार कुल तीन की जमानत बची। यहां कुल 180631 वैध वोटों में किसी भी प्रत्याशी को जमानत बचाने के लिए कम से कम 30139 वोट लाने की दरकार थी। गोविदपुर से जीते राजद के मो. कामरान व जदयू की पूर्णिमा यादव ही जमानत बचा सके। यहां 161682 वैध वोटों में जमानत बचाने के लिए 26948 वोटों की जरूरत थी। इतने वोट वीनर-रनर के अलावा किसी और को नहीं मिला। यहां से लोजपा के रंजीत यादव सहित 14 की जमानत जब्त हो गई। रंजीत ने 16 हजार से ज्यादा वोट अवश्य लाए लेकिन जमानत नहीं बची। हिसुआ से चुनाव मैदान में डटे 8 प्रत्याशियों में वीनर रही कांग्रेस की नीतू कुमारी व रनर रहे भाजपा के अनिल सिंह की जमानत बची। अन्य 6 की जमानत नहीं बची। यहां 19060 वैध वोटों में जमानत बचाने के लिए 31677 वोट की दरकार थी। दो को छोड़ अन्य इससे काफी पीछे रह गए। वारिसलीगंज से 10 प्रत्याशियों में वीनर भाजपा की अरूणा देवी, रनर कांग्रेस के सतीश कुमार और निर्दलीय आरती सिन्हा की ही जमानत बची। अन्य सात प्रत्याशी लड़ाई से काफी दूर रहे। यहां कुल पड़े 171126 वैध वोटों में से जमानत बचाने के लिए किसी भी प्रत्याशी को 28522 वोटों की दरकार थी। रजौली में जीते राजद के प्रकाश वीर व प्रतिद्वंद्वी रहे भाजपा के कन्हैया कुमार की जमानत बची। अन्य 20 प्रत्याशी जमानत नहीं बचा पाए। यहां जमानत बचाने के लिए कुल पड़े वैध वोटों 167735 में से 27956 वोट लाना आवश्यक था। ------------------- क्या कहता है नियम ऐसे हारे हुए अभ्यर्थी की, जो किसी निर्वाचन क्षेत्र में डाले गए कुल विधिमान्य मतों की संख्या के छठे भाग से अधिक मत प्राप्त करने में असफल होते हैं, जमानत राशि जब्त हो जाती है। अर्थात कुल वैध वोटों का छठा भाग से एक ज्यादा लाना आवश्यक होता है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

अन्य समाचार