कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:
Live Update: बिहार के हर जिला का कोरोना अपडेट, टीकाकरण और टेस्ट का डाटा देखे

जहरीली शराब ने छीन ली आंखों की रोशनी, कईयों की ले जी जान

- पेट में शुरू हुआ दर्द फिर चली गई आंख की रोशनी



संवाद सहयोगी, नवादा : खरीदी बिगहा गांव के चमारी चौधरी के आंखों की रोशनी छीन जाने की सूचना पर अधिकारियों की टीम घर पहुंची। पीड़ित की पुत्री किसमतिया देवी ने अधिकारियों समक्ष बताया कि होलिका दहन के दिन यानी कि सोमवार की शाम को पिता शराब पीकर आए थे। अचानक पेट दर्द से कराहने लगे। धीरे-धीरे आंख की रोशनी भी चली गई। जिसके बाद इलाज के लिए लेकर सदर अस्पताल पहुंचे। पीड़ित की बेटी ने यह भी बताया कि अस्पताल में इलाके के ही दो लोग पहुंचे थे। जिनकी मौत हो गई थी। पता चला कि शराब पीने के कारण ही मौत हुई तो इलाज बंद कराकर घर लौट गए। फिर घर पर ही ग्रामीण चिकित्सक से से इलाज करवाया। जांच टीम में रहे अधिकारियों ने स्वजनों को पुन: पीड़ित का सदर अस्पताल में इलाज कराने का सुझाव दिया। इधर, तीन नंबर बस स्टैंड गांधी नगर के समीप निवासी और मृतक ओमप्रकाश की पत्नी रंजू देवी ने होली के दिन पति की तबीयत बिगड़ गई। पेट में दर्द हुआ और आंख की रोशनी जाने लगी। पास में एक निजी अस्पताल लेकर पहुंचे तो वहां इलाज करने से इनकार कर दिया। इसके बाद दूसरे निजी अस्पताल में काफी आरजू-मिन्नत के बाद इलाज किया गया। वहां सेलाइन चढ़ाते-चढ़ाते पति ने दम तोड़ दिया। उन्होंने बताया कि पति शराब पीकर आए थे। जिसके बाद ही तबीयत खराब हुई थी। दूसरी ओर सिसवां गांव के मृतक गोपाल के स्वजनों ने भी शराब को मौत की वजह बताई। मृतक के भाई ने बताया कि गोपाल नवादा के एक निजी स्कूल में बतौर गार्ड काम किया करता था। होली के दिन तीन बजे स्कूल से निकला। लेकिन रात में नशे की हालत में करीब आठ बजे पहुंचा। अचानक रात में तबीयत बिगड़ गई। जिसके बाद उसे लेकर सदर अस्पताल गए। जहां से प्राथमिक उपचार के बाद विम्स पावापुरी रेफर कर दिया गया। वहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

सांसद चंदन ने कहा हो सही जांच-
्र शराब से मौत की घटना निदनीय है। इसे नकारा नहीं जा सकता है। इस मुद्दे पर प्रशासन से बात हुई है। इसकी जांच कराने की मांग की गई है। दोषियों पर कार्रवाई हो। शराबबंदी को सख्ती से पालन कराने के लिए प्रशासन को मजबूती से नीचे स्तर तक काम करना होगा। बगैर नीचे स्तर तक काम किए इसे प्रभावी बनाए रखना मुश्किल है। वाहनों की सघन जांच हो। शराब भट्ठियों को ध्वस्त करने के लिए छापेमारी की जाए। तभी लोग सुरक्षित रह पाएंगे। चंदन सिंह, सांसद, नवादा।
-------------------
- होली के अवसर पर शराब से दो दर्जन से अधिक लोगों की मौत हुई है। गोंदापुर, खरीदी बिगहा व आसपास के इलाके में मौत की घटनाएं हुई हैं। कई लोग बीमार भी हुए हैं। जिला प्रशासन दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करे। मृतक के स्वजनों को 20-20 लाख रुपये मुआवजा दिया जाए।
प्रिस तमन्ना, राजद जिला उपाध्यक्ष।
शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

अन्य समाचार