कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

Pegasus Spyware : फोन तोड़कर ही मिलेगा पेगासस स्पाइवेयर से छुटकारा! जानें यहां हर सवाल का जवाब

Pegasus Spyware news India : इस्राइली कंपनी एनएसओ ग्रुप द्वारा तैयार यह सॉफ्टवेयर पीड़ितों के फोन को कैसे संक्रमित करता है, इसे समझना कठिन नहीं है. सबसे पहले हैक में एक तैयार किया गया एसएमएस या आइमैसेज शामिल होता है, जो एक वेबसाइट का लिंक देता है. इस लिंक पर ते ही यह सॉफ्टवेयर डिवाइस पर नियंत्रण कर लेता है.



ये सॉफ्टवेयर या तो रूटिंग (एंड्रायड उपकरण पर) या जेलब्रेकिंग (ऐपल आईओएस उपकरण पर) द्वारा मोबाइल के ऑपरेटिंग सिस्टम पर पूरी तरह कब्जा हासिल कर लेता है. रूटिंग और जेलब्रेकिंग दोनों ही एंड्रायड या आइओएस ऑपरेटिंग सिस्टम में एम्बेडेड सुरक्षा नियंत्रण को हटा देते हैं और इस तरह एक अनजान हमलावर का फोन पर नियंत्रण हो जाता है. पेगासस पर ज्यादातर मीडिया रिपोर्ट एपल उपकरणों पर नियंत्रण हासिल करने से संबंधित हैं. स्पाइवेयर एंड्रायड पर उतना प्रभावी नहीं है.
-क्या एंटी-वायरस सॉल्यूशन पेगासस जैसे स्पाइवेयर से बचा सकते हैं
जवाब : नहीं. एंटीवायरस सॉल्यूशन पेगासस की पहचान करने में असमर्थ हैं. पेगासस जैसे खतरे किसी की जानकारी के बिना आपके फोन में काम कर सकते हैं.
-क्या स्मार्टफोन को फैक्टरी रीसेट करने से पेगासस से छुटकारा मिलेगा.
जवाब : नहीं. पेगासस में चिप-लेवल तक अटैक करने की क्षमता है, जिससे यह फैक्टरी रीसेट करने के बाद भी फोन में बना रहता है.
-क्या फोन स्विच ऑफ रखने से पेगासस ट्रैक नहीं कर पायेगा.
जवाब : जरूरी नहीं. पेगासस में ऑडियो रिकॉर्ड करने और कैमरे का उपयोग करने की क्षमता तब भी होती है जब डिवाइस को बंद कर दिया जाता है.
Pegasus Spyware क्या है? WhatsApp को हैक कर कैसे करता है जासूसी?
-क्या स्मार्टफोन पर वीपीएन के उपयोग से पेगासस से बचने में मदद मिलेगी.
जवाब : नहीं, वीपीएन या वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क आपके फोन को पेगासस हमले से बचाने में मदद नहीं कर सकता है. ऐसा इसलिए है क्योंकि फोन में कई डिलीवरी मोड हैं. आप केवल एक दुर्भावनापूर्ण ब्लूटूथ स्रोत के साथ निकटता में रहकर अपने फोन पर स्पाइवेयर प्राप्त कर सकते हैं. पीड़ित का फोन नंबर ज्ञात न होने पर भी पेगासस स्थापित किया जा सकता है.
-क्या एक ही फोन में नया सिम कार्ड बदलने से पेगासस से बचाव होगा.
जवाब : नहीं. जब तक डिवाइस पेगासस से इंफेक्टेड है, उसी डिवाइस पर नये सिम कार्ड का उपयोग करने से कोई मदद नहीं मिलेगी. स्पाइवेयर इससे भी डेटा निकालना शुरू कर देगा.
-मोबाइल डेटा बंद करने और वाई-फाई के इस्तेमाल से मदद मिलेगी.
जवाब : नहीं. फोन से पेगासस द्वारा डेटा ट्रांसमिशन की गति धीमी हो सकती है, लेकिन यह आपके फोन की आवाज को पास के नेटवर्किंग डिवाइसेस पर सुनने से नहीं रोक सकता है. पेगासस के नेटवर्किंग उपकरणों से जुड़ने की क्षमता बनी रहती है.
-क्या फोन का पासकोड या लॉक बदलने से पेगासस पर असर होगा.
जवाब : नहीं. पेगासस को पासकोड, फेस अनलॉक, पैटर्न या अन्य प्रकार की फोन लॉकिंग सुविधाओं से कोई मतलब नहीं है. आप जितना चाहें पासकोड बदल सकते हैं, लेकिन पेगासस अपना काम करता रहेगा.
-क्या फोन को एन्क्रिप्ट करने से पेगासस से बचने में मदद मिलेगी.
जवाब : जरूरी नहीं है. एन्क्रिप्शन तब मदद करता है जब फोन आपके पास नहीं हो और कोई तीसरा पक्ष आपका डेटा प्राप्त करने का प्रयास कर रहा हो. लेकिन पेगासस के मामले में यह आपके फोन में ही रहता है. जब आप फोन का उपयोग कर रहे होते हैं, तो डेटा पहले से ही डिक्रिप्ट होता है. जो आप अपनी स्क्रीन पर देख सकते हैं, पेगासस इसे भी देख सकता है और फिर इसे गुप्त रूप से स्क्रीनशॉट लेकर अपने ऑपरेटरों के पास भेज सकता है.
फोन को नष्ट कर ही पा सकते हैं छुटकारा : अपने फोन से पेगासस से छुटकारा पाने का एकमात्र तरीका फोन, मेमोरी कार्ड और सिम कार्ड को पूरी तरह से नष्ट कर देना है. एक अलग फोन नंबर के साथ एक नया फोन और एक नया सिम कार्ड प्राप्त करें और अपने खातों के पासवर्ड बदलें.
बेहतर सुरक्षा के लिए ये करें
1. अपने उपकरण का इस्तेमाल करते समय सिर्फ ज्ञात और भरोसेमंद संपर्कों और स्रोतों से लिंक खोलें
2. सुनिश्चित करें कि आपका फोन किसी भरोसेमंद पैच के साथ अपडेट हो.
3. अपने फोन को लोगों की पहुंच से दूर रखें. पिन, फिंगर या फेस-लॉकिंग का इस्तेमाल करें.
4. सार्वजनिक व मुफ्त वाईफाई से बचें.
5. अपने डिवाइस डेटा को एन्क्रिप्ट करें.

अन्य समाचार