कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:
A:सीजन सेल में लैपटॉप और मोबाइल पर पाए 50 % तक डिस्काउंट, click करे लिंक पर
F: सीजन सेल में पाए 70% डिस्काउंट , हर इलेक्ट्रॉनिक उपकरण पर, click करे लिंक

हज़ारों बेघर और बेसहारा बच्चों के किंग अंकल हैं अनुपम खेर, वीडियो में दिखी अनोखी बॉन्डिंग

अपने मूल्यों पर जीवन जीने वाले अनुपम खेर समाज की किसी बंदिश को नहीं मानते। फिल्में अच्छा करें या नहीं उनको फर्क पड़ता है सिर्फ अपने किरदार का जिससे वो ज़ोरदार और दमदार तरीके से पेश करते आए हैं। 66 की उम्र के एक्टर समाज के हर एक आम आदमी हो या उनसे जुड़े मुद्दे वो बिना डरे और बेबाक अंदाज़ से अपनी बात कहने के लिए हमेशा जाने जाते है।
सीजन सेल में लैपटॉप और मोबाइल पर पाए 50 % तक डिस्काउंट, click करे लिंक पर



बॉलीवुड तड़का टीम. अपने मूल्यों पर जीवन जीने वाले अनुपम खेर समाज की किसी बंदिश को नहीं मानते। फिल्में अच्छा करें या नहीं उनको फर्क पड़ता है सिर्फ अपने किरदार का जिससे वो ज़ोरदार और दमदार तरीके से पेश करते आए हैं। 66 की उम्र के एक्टर समाज के हर एक आम आदमी हो या उनसे जुड़े मुद्दे वो बिना डरे और बेबाक अंदाज़ से अपनी बात कहने के लिए हमेशा जाने जाते है।

आज सुबह भी कुछ ऐसा ही हुआ जब अनुपम खेर ने अपनी ज़िंदगी से जुड़ा एक लम्हा अपने फैन्स के साथ साझा किया। वो दरअसल वे आज सुबह अपनी मॉर्निंग वॉक पर निकले जो वो हमेशा से जाते ही है। इस दौरान वे एक नन्ही बच्ची और उसके साथी से मिले और उनके साथ कुछ पल गुज़ारे। ये पूरा का पूरा वीडियो उन्होंने अपने सोशल मीडिया प्लेटफार्म Koo पर शेयर किया। वीडियो को देखकर ये अंदाजा लगाया जा सकता है कि ये बचे अनुपम खेर से लम्बे समय से जुड़े हुए हैं और शायद कोरोना काल के कारण उनकी मुलाकात नहीं हो पाई थी।
अपने किंग अनुपम अंकल को आते देख सभी बच्चे दौड़कर किस तरह उनके पास आ गए, यह देखना वाकई में बेहद अद्भुत है। ये पोस्ट जब अनुपम ने सोशल मीडिया प्लेटफार्म Koo पर शेयर किया तो काफी इमोशनल शब्दों का इस्तेमाल कर लिखा "मेरे मॉर्निंग वॉक फ्रेंड्स- भारती, कोहिनूर और अन्य अब पहले से अधिक बड़े और लम्बे दिखाई देने लगे हैं, खासकर लड़के, लेकिन हमारा आपसी प्यार और बॉन्ड पहले की तरह ही है। ईश्वर उन पर सदैव कृपा बनाए रखें। #StreetsOfMumbai #Friendship #Juhu #Love"

अनुपम खेर को पसंद है बच्चे अनुपम खेर को हमेशा से बच्चों से लगाव रहा है और सभी बच्चों से एक दोस्त की तरह प्यार बनाए रखते हैं। बहुत कम ही लोग हैं, जो इतनी बड़ी शख्सियत रखने के बावजूद जमीन से जुड़ा हुआ व्यक्तित्व रखते हैं। उन्हें अक्सर बच्चों के साथ खूब खेलते देखा जा चुका है। यही वजह है कि वे मुंबई में बेसहारा और बेघर बच्चों केलिए अपनी और से कुछ न कुछ करते भी हैं।अनुपम इन बच्चों को अपना दोस्त कहते ही नहीं, बल्कि मानते भी हैं।
अनुपम खेर की अपनी कोई औलाद नहीं हैं
अनुपम खेर की बच्चो के साथ इसलिए भी एक अलग लगाव के पीछे एक बड़ी वजह ये भी हो सकती हैं कि उनके खुद के बच्चे नहीं हैं। 66 साल के अनुपम खेर कई इंटरव्यू में यह बात कबूल भी कर चुके हैं कि उन्हें अपने बच्चों की कमी बहुत खलती है।मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 2013 में दिए एक एक इंटरव्यू के दौरान अनुपम ने कहा था कि सिकंदर (किरण खेर और उनके पहले पति गौरम बैरी के बेटे) तब चार साल का था, जब वह मेरे पास आया। वह मुझे बहुत प्यार और सम्मान देता है। उन्होंने कहा कि जैसा व्यवहार मेरे पिता का मेरे प्रति था, वैसा ही मेरा सिकंदर के प्रति है। लेकिन यह कहना गलत होगा कि मुझे खुद के बच्चे की कमी नहीं खलती। मुझे यह कमी खलती है। लेकिन मैं कुछ कर नहीं सकता।

अन्य समाचार