कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

सदर अस्पताल में 11 में से ड्यूटी पर आए मात्र तीन चिकित्सक, बेहाल रहे मरीज

संवाद सहयोगी, लखीसराय। लखीसराय सदर अस्पताल में सबकुछ मैनेज सिस्टम से चल रहा है। चिकित्सकों की मनमानी पर किसी भी अधिकारी का नियंत्रण नहीं है। तमाम दावों के बाद भी अस्पताल खुद बीमार है और कराह रहा है। शुक्रवार को रोस्टर के मुताबिक सदर अस्पताल में 11 चिकित्सकों की ड्यूटी लगी थी। इसमें से मात्र तीन चिकित्सक ही ड्यूटी पर मौजूद थे। वह भी निर्धारित समय सुबह आठ बजे की जगह 10 बजे के बाद ही ड्यूटी पर पहुंचे और एक बजते ही सभी निकल गए। जिलाधिकारी से लेकर सिविल सर्जन तक मुख्यालय के बाहर हैं। प्रभार में चल रहे इस जिले की स्वास्थ्य व्यवस्था चौपट हो गई है। शुक्रवार को तो पूरे दिन मरीजों की फजीहत होते रही और स्वजन उसे लेकर निजी अस्पताल ले जाने को विवश दिखे।


----
दूसरे के बदले ड्यूटी कर रहे थे डा. मणिभूषण
गुरुवार की रात डा. अमित कुमार सिन्हा की ड्यूटी थी। लेकिन, उनके बादले डा. मणिभूषण ड्यूटी कर रहे थे। जबकि डा. मणिभूषण की ड्यूटी शुक्रवार की सुबह आठ बजे से थी। रात को ड्यूटी करने बाद वे अपनी ड्यूटी के समय जाकर चिकित्सक कक्ष में सो गए। जेनरल ओपीडी में कुल चार चिकित्सकों की ड्यूटी थी लेकिन 10 बजे तक एक भी नहीं आए।। प्रभारी उपाधीक्षक डा. हरदीप बागड़िया सहित आठ चिकित्सक ड्यूटी से अनुपस्थित रहे। 10 बजे इमरजेंसी में डा. मणिभूषण कुमार ड्यूटी पर पहुंचे। उन्होंने ही ओपीडी एवं इमरजेंसी मरीजों का इलाज किया। इसके अलावा जेनरल सर्जरी में डा. अशोक कुमार सिंह एवं दंत चिकित्सक आरके उपाध्याय ड्यूटी पर पहुंचे। महिला चिकित्सक के ड्यूटी से गायब रहने के कारण दर्जनों महिला मरीजों को बिना इलाज कराए ही बैरंग वापस लौटना पड़ा। इसके पूर्व प्रभारी सिविल सर्जन डा. कुमार अमित ने सदर अस्पताल का निरीक्षण किया। इस दौरान आठ चिकित्सक के ड्यूटी से गायब रहने पर उन्होंने नाराजगी व्यक्त की। सिविल सर्जन के अवकाश से लौटने पर उन्हें इसकी लिखित जानकारी देने की बात कही।
----
एक बजते ही निकल गए डाक्टर
हद तो तब हो गई जब मरीज अपना इलाज कराने के लिए अपनी बारी का इंतजार करते रहे और दिन के एक बजते ही इमरजेंसी एवं ओपीडी के चिकित्सक चले गए। इसको लेकर मरीज हंगामा करने लगे। पैर की दर्द से परेशान ओरैया की मु. जसीर की पुत्री हिना खातून, मारपीट में जख्मी अन्य महिला के अलावा एक कैदी की मेडिकल जांच कराने आए नवादा रेल थाना की पुलिस को एक घंटा से अधिक समय तक इमरजेंसी में बैठकर चिकित्सक का इंतजार करना पड़ा। इस दौरान मरीजों ने जमकर हंगामा किया। इमरजेंसी में जीएनएम ने मारपीट में जख्मी लोगों को मरहम पट्टी की।
-----
शुक्रवार को रोस्टर के अनुसार ड्यूटी में लगाए गए चिकित्सक
इमरजेंसी में डा. मणिभूषण कुमार - ड्यूटी पर मौजूद।
जेनरल सर्जरी में डा. अशोक कुमार सिंह - ड्यूटी पर मौजूद।
ओपीडी में डा. संजय कुमार - अनुपस्थित।
दंत चिकित्सक आरके उपाध्याय - ड्यूटी पर मौजूद।
महिला ओपीडी में डा. ज्योत्सना - अनुपस्थित।
प्रसव वार्ड एवं आपरेशन थिएटर में डा. संगीता राय - अनुपस्थित।
ओपीडी में डा. राज अभय - अनुपस्थित।
ओपीडी में डा. अश्विनी कुमार - अनुपस्थित।
ओपीडी में डा. हरदीप बागरिया - अनुपस्थित।
हड्डी रोग विशेषज्ञ डा. आलोक कुमार - अनुपस्थित।
एनसीडी क्लीनिक में डा. अविनाश कुमार सत्यम - अनुपस्थित।

अन्य समाचार