कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

लंबे समय से ड्यूटी से फरार पांच चिकित्सकों पर होगी कार्रवाई

जागरण संवाददाता, शेखपुरा : जिले में लंबे समय से ड्यूटी से फरार पांच चिकित्सकों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू होने का रास्ता साफ हो गया है। इन फरार चिकित्सकों को इससे पहले कई बार कारण बताओ नोटिस जारी किया जा चुका है। नोटिस को कोई तबज्जो नहीं देने के बाद इनके खिलाफ अब प्रपत्र-क गठित करके विधिवत विभागीय कार्रवाई शुरू की जाएगी। इस विभागीय कार्रवाई के तहत इन फरार चिकित्सकों को नौकरी से भी हाथ धोना पड़ सकता है। सिविल सर्जन डॉ पृथ्वीराज ने बताया इन फरार चिकित्सकों के खिलाफ राज्य मुख्यालय को प्रपत्र-क गठित करके कार्रवाई शुरू करने की अनुशंसा कर दी गई है। इसमें से कुछ चिकित्सक तो जिला में योगदान देने के बाद 6 वर्षों से फरार हैं। चिकित्सकों के फरार रहने से जिले की स्वास्थ्य सेवा प्रभावित हो रही है। बताया गया जिले के सरकारी अस्पतालों में चिकित्सकों के जीतने पद स्वीकृत हैं, उसमें लगभग आधे पदों पर नियुक्ति ही नहीं है। जिले में कुल 122 चिकित्सकों का पद स्वीकृत हैं इसमें से 67 पद खाली पड़ा हुआ है। ऊपर से जो पदस्थापित भी हैं तो उसमें कई चिकित्सक लंबे समय से फरार हैं। जिले में चिकित्सकों की कमी की समस्या सदर अस्पताल, रेफरल अस्पताल, पीएसची और अतिरिक्त पीएचसी भी झेल रहे हैं। सदर अस्पताल में पिछले साल कोविड को लेकर एक साल के अनुबंध पर तैनात चार चिकित्सकों का समय पूरा होने के बाद यहां मैन पावर की कमी हो गई है। इन चिकित्सकों पर कार्रवाई-


लंबे समय से फरार जिन पांच चिकित्सकों के खिलाफ प्रपत्र-क की कार्रवाई की अनुशंसा की गई है वे सभी ग्रामीण क्षेत्रों में पदस्थापित हैं। इसमें अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कपासी के डॉ विमलेश कुमार,गगरी के डॉ अमित कुमार, बरमा के डॉ सुजीत कुमार, विमान के डॉ संजय कुमार तथा अरियरी के डॉ अनील कुमार शामिल हैं।

अन्य समाचार