कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

लखनदेई बचाओ संघर्ष समिति का संकल्प आठ वर्षों में पूरा

सीतामढ़ी। जिले के सोनबरसा प्रखंड के खाप खोपराहा में लखनदेई नदी की उड़ाही कार्य जारी है और जल प्रवाह की ओर अग्रसर है। लखनदेई बचाओ संघर्ष समिति के सदस्यों डॉ.आनंद किशोर, राम शरण आग्रवाल, रामशंकर शास्त्री ने कहा कि समिति के लोक अभियान का संकल्प 8 वर्षों में पूरा हुआ है। कहा कि हमारी सरकार से मांग थी कि लखनदेई नदी में जल प्रवाह का कार्य शुरू हो। जल प्रवाह में बॉर्डर रोड की बाधा को दूर करने का कार्य हो रहा था। तत्काल ह्यूम पाइप लगाकर जल प्रवाह शुरू कराने की व्यवस्था में अभियंता लगे थे। लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा शुक्रवार को निरीक्षण करने के बाद देर शाम नदी में जल स्तर बढ़ने से जल प्रवाह होने लगा है। चार दशक से मृत लखनदेई उर्फ लक्ष्मणा नदी को पुनर्जीवित कर जल प्रवाह कराने का उत्तर भारत का यह पहला उदाहरण होगा।


लखनदेई में जल प्रवाह के लिए 19.70 करोड़ की लागत से 18 कि.मी.पुरानी धारा की उड़ाही के साथ तीन कि.मी. नई धारा का निर्माण कार्य पूरा हो गया है। लखनदेई में छोटी भारसर में पितांबरपुर तक 21 कि.मी.चैनल का निर्माण पूरा हो गया है। इस लोक अभियान में सोनबरसा क्षेत्र के आमजन तथा खासकर 152 भूमिदाता न जो सहयोग किया है तथा लखनदेई बचाओ संघर्ष समिति में विश्वास व्यक्त किया है वह अभिनंदनीय है। जमीन मुआवजा भुगतान के लिए बगैर किसानों ने अपनी जमीन से नहर खुदाई में सहयोग किया। अभी 65 किसानों की भूमि का बकाया मुआवजा राशि 142 करोड़ रुपये के भुगतान के लिए सरकार शीघ्र राशि विमुक्त करे। इस संबंध में जल निस्सरण विभाग ने सरकार को आवंटन के लिए पत्र भेजा है। नदी के पुनर्जीवन से सोनबरसा, बथनाहा, रीगा, डुमरा, रुन्नीसैदपुर प्रखंड के लाखों लोग लाभान्वित होंगे। मानव तथा पशुओं को भी सीधा लाभ मिलेगा। बढ़ते जल संकट की स्थिति में भू जल स्तर में भी सुधार होगा। लखनदेई बचाओ संघर्ष समिति के डॉ.आनंद किशोर, राम शरण आग्रवाल, रामशंकर शास्त्री ने कहा कि अभियान में समिति के कर्मठ सदस्य जयकिशोर साह ललित, विनोद कापड़, आशा प्रभात एवं रामबाबू साह आदि सदस्यों ने सोनबरसा के विभिन्न भागों में करीब 150 बार यात्रा, बैठक, सभा तथा एक दर्जन बार पटना का दौरा किया। इस लखनदेई जल प्रवाह को पूरा कराने में तत्कालीन जिला पदाधिकारी राजीव रौशन से लेकर अब तक पांच जिला पदाधिकारी, तीन जल संसाधन मंत्री सहित अभियंता प्रमुख, जल संसाधन सचिव, गंगा बाढ़ मुक्ति अभियान के अध्यक्ष सहित केंद्रीय मंत्री से समिति के साथियों ने मिलकर माता सीता की सहेली लक्ष्मणा में जल प्रवाह की ओर उनका ध्यान आकृष्ट कराया था। लखनदेई बचाओ संघर्ष समिति लखनदेई जल प्रवाह के इस अभियान के अपने सहयोगियों, अधिकारी, अभियंता तथा समाजसेवियों को आमंत्रित कर शीघ्र सम्मान समारोह का आयोजन करेगी। साथ ही शनिवार को समिति की ओर से लखनदेई नदी की आरती की जाएगी।

अन्य समाचार