कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

राष्ट्रीय लोक अदालत में निष्पादित किए गए 668 मामले

गोपालगंज : शनिवार को व्यवहार न्यायालय परिसर में लगाए गए राष्ट्रीय लोक अदालत में आपसी सुलह व समझौते के आधार पर 668 मामलों का निष्पादन किया गया। लोक अदालत के दौरान हर तरह के वाद का निष्पादन किया गया। इसको लेकर कुल 18 पीठ का गठन कर न्यायिक पदाधिकारियों से लेकर पैनल अधिवक्ता व कर्मियों तक की तैनाती की गई थी।

नए न्यायालय भवन के ग्राउंड फ्लोर पर शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत का उद्घाटन जिला सत्र न्यायाधीश विष्णुदेव उपाध्याय, जिलाधिकारी डा. नवल किशोर चौधरी तथा एसपी आनंद कुमार ने संयुक्त रूप से किया। उद्घाटन समारोह के दौरान जिला जज व न्यायिक पदाधिकारियों ने आपसी समझौते के आधार पर अधिक से अधिक वाद का निपटारा करने की अपील की। उन्होंने कहा कि लोक अदालत का उद्देश्य लोगों को सस्ता और सुलभ नया तुरंत दिलवाना है। लोक अदालत अपने उद्देश्यों में तभी सफल होगा जब समाज के प्रबुद्ध वर्ग के लोगों का सहयोग मिले। समारोह के बाद गठित किए गए पीठ के माध्यम से लंबित वाद के निष्पादन की कार्रवाई शुरू की गई। पूरे दिन चले इस लोक अदालत के दौरान सबसे अधिक फौजदारी के सुलहनीय वाद का निपटारा किया गया। इस लोक अदालत को लेकर गठित किए गए 18 पीठ में न्यायिक पदाधिकारियों के अलावा न्यायालय के कर्मियों की भी तैनाती की गई थी। लोक अदालत को लेकर पीठ में अपर जिला जज स्तर के पदाधिकारियों के अलावा सबजज व न्यायिक पदाधिकारियों की भी तैनाती की गई थी। उद्घाटन समारोह में जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव बालेंद्र शुक्ला के अलावा तमाम न्यायिक पदाधिकारियों के अलावा बैंकों के कर्मी, अधिवक्ता व सैकड़ों की संख्या में पक्षकार मौजूद रहे।

-----------
बैंक से जुड़े 22098 मामलों में से 236 का निष्पादन
इस राष्ट्रीय लोक अदालत में बैंक से जुड़े कुल 22098 मामले आए थे। इनमें से 236 मामलों का आपसी सुलह व समझौते के आधार पर निष्पादन किया गया। निष्पादित किए गए बैंक से जुड़े मामलों में 01 करोड़ 35 लाख 16 हजार 652 रुपये की राशि पर सेटलमेंट किया गया।
----------
23290 मामलों में जारी किया गया था नोटिस
राष्ट्रीय लोक अदालत को लेकर कुल 5724 मामलों में पक्षकारों को नोटिस जारी किया गया था। इनमें बैंक से जुड़े मामलों की संख्या सबसे अधिक थी। लोक अदालत के दौरान बैंक के अलावा न्यायालयों में लंबित मामलों का भी निष्पादन किया गया।
---------
लोक अदालत में इन वादों का हुआ निष्पादन
वाद के प्रकार - निष्पादित वाद
बैंक वाद 236
अन्य केस 07
एमएसीटी वाद 01
फौजदारी वाद 389
विद्युत वाद 25
वैवाहिक वाद 04
सिविल वाद 02
एनआई एक्ट 02
श्रम वाद 02
कुल 1225

अन्य समाचार