कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

बस नाम की है नगर पंचायत, समस्याओं का अंबार

संवाद सूत्र, राघोपुर (सुपौल) : कहने को तो सिमराही बाजार विकास के पथ पर अग्रसर है परंतु विडंबना यह है कि यहां आज भी कई समस्याएं लंबित पड़ी हुई हैं। अब तो इस बाजार को नगर पंचायत का भी दर्जा दे दिया गया है लेकिन यह सिर्फ नाम का है।

बताते चलें कि सिमराही बाजार से दो-दो राष्ट्रीय मार्ग एनएच 106 एवं राष्ट्रीय राजमार्ग 57 सडक गुजरती है। एनएच 57 सिलचर से चलकर पोरबंदर तक जाती है। इस मार्ग से प्रतिदिन सैकड़ों भारी कामर्शियल मालवाहक वाहन सहित पंजाब, लुधियाना, दिल्ली, जयपुर, गुवाहाटी, लखनऊ, पटना सहित देश के कई शहरों के लिए डिलक्स बस से लेकर साधारण यात्री गाड़ी हजारों की संख्या में प्रतिदिन गुजरती है लेकिन इस शहर में यात्रियों की सुविधा के नाम पर कुछ नहीं है। न तो बस स्टैंड है न ही एक भी शौचालय एवं पानी पीने की भी कोई व्यवस्था है। रात्रि में जब बस सिमराही बाजार में रुकती है तो खासकर महिलाओं के लिए शौचालय एवं पानी की व्यवस्था नहीं रहने से परेशानी होती है। सड़क के किनारे बसे लोग महिलाओं के लिए अपना शौचालय खुलवा देते हैं। वहीं राष्ट्रीय राजमार्ग 106 में प्रशासन द्वारा नाला निर्माण के लिए अतिक्रमणमुक्त कराया जाता है लेकिन सड़क निर्माण कंपनी द्वारा आधा-अधूरा नाला निर्माण कर कार्य को ठंडे बस्ते में डाल दिया जाता है। स्थानीय बैजनाथ प्रसाद यादव, काशी गुप्ता, मु. जफर उद्दीन, चांद रोशन आदि ने बताया कि एनएचएआइ के अधिकारियों द्वारा कहा गया था कि होली के उपरांत कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा लेकिन अभी तक नाला निर्माण का कार्य प्रारंभ नहीं किया है। आगे बरसात भी आने वाला है। उस स्थिति में क्या हाल होगा। स्थानीय सैकड़ों लोगों ने जिलाधिकारी से जल्द से जल्द नाला निर्माण एवं शौचालय निर्माण कराने की मांग की है।
एमडीएम में बच्चों को कहीं अंडा नहीं मिलता तो कहीं मौसमी फल यह भी पढ़ें

अन्य समाचार