कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

एसडीओ के निरीक्षण में मिलीं कई गड़बड़ियां



संवाद सूत्र, सहदेई बुजुर्ग (वैशाली):
महनार एसडीओ सुमित कुमार ने प्रखंड की दो पंचायतों में विभिन्न सरकारी योजनाओं की जांच की। जांच के दौरान कई योजनाओं के संचालन में गड़बड़ी को लेकर पंचायत सचिव, आवास सहायक एवं विद्यालय के प्रधानाध्यापक आदि से स्पष्टीकरण पूछते हुए कई का वेतन बंद करने का आदेश दिया है। इस संबंध में एसडीओ कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार एसडीओ ने सहदेई बुजुर्ग प्रखंड के मुरौबतपुर एवं नयागांव पश्चिमी पंचायत के विभिन्न सरकारी योजनाओं की जांच की। एसडीओ ने मुरौबतपुर पंचायत में आवास योजना, नल जल योजना, आंगनबाड़ी केंद्र, मनरेगा, स्कूल से संबंधित योजनाओं का निरीक्षण किया। नल जल योजना में वार्ड संख्या 5, 6, 12 में नल जल संचालित नहीं था। एसडीओ ने बीडीओ एवं पंचायत सचिव से इस संबंध में स्पष्टीकरण की मांग की है। पंचायत स्थित आंगनबाड़ी केंद्र 112 पर किसी प्रकार की व्यवस्था नहीं थी। 40 में से 24 बच्चे उपस्थित थे। बच्चे पोशाक में नहीं थे।टीएचआर में भी अनियमितता पाई गई। मनरेगा में भी कार्य संतोषप्रद नहीं था। पीओ मनरेगा पर स्पष्टीकरण करने का निर्देश दिया गया है। उत्क्रमित मध्य विद्यालय मुरौबतपुर में बच्चों की उपस्थिति बहुत कम थी। विद्यालय में शौचालय, बिजली की व्यवस्था नही थी। स्कूल के प्रधानाध्यापक से स्पष्टीकरण की मांग की गई एवं वेतन रोकने का निर्देश दिया गया है। नयागांव पश्चिमी पंचायत में भी आवास योजना, नल जल योजना, आंगनबाड़ी केंद्र, मनरेगा स्कूल से संबंधित योजनाओं का निरीक्षण किया गया। नल जल योजना में पाइप 2.5 फिट नीचे रखना है परंतु पाइप जमीन पर था। एसडीओ ने पंचायत सचिव से इस संबंध में स्पष्टीकरण की मांगते हुए वेतन अगले आदेश तक स्थगित करने का आदेश दिया है। आंगनबाड़ी केंद्र 50 पर सेविका कुछ लिख पढ़ नहीं पा रही थी। 40 में 24 बच्चे उपस्थित थे। बच्चे पोशाक में नहीं थे। टीएचआर में भी अनियमितता पाई गई। आवास योजना वार्ड 01 में दलित बस्ती में लगभग 100 घर है एक भी लाभुको को आवास योजना का लाभ नहीं मिला है। आवास सहायक से स्पष्टीकरण लेने का निर्देश दिया गया। मनरेगा में भी कार्य संतोषप्रद नहीं था। पीओ मनरेगा पर स्पष्टीकरण करने का निर्देश दिया गया है। उत्कमित मध्य विद्यालय वरियारपुर में बच्चों की उपस्थिति बहुत कम थी। कक्षा 01 से 08 तक की पढ़ाई होती है। लेकिन वर्ग की संख्या 03 ही है। प्रयोगशाला, पुस्तकालय संचालित नही है। स्कूल के प्रधानाध्यापक से स्पष्टीकरण की मांग की गई एवं वेतन रोकने का निर्देश दिया गया।
पीएचसी को अपग्रेड कर 30 बेड वाले सीएचसी का निर्माण कार्य प्रारंभ यह भी पढ़ें

अन्य समाचार