कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

मतदाता सूची में गड़बड़ी, 25 प्रतिशत फर्जी वोटरों के नाम दर्ज

संवाद सूत्र, मधेपुरा: चुनाव आयोग ने अभी तक नगर परिषद चुनाव की तिथि घोषित नहीं की है, लेकिन मतदाता सूची में नाम जोड़ने तथा हटाने के खेल को लेकर तकरार शुरू हो गया है। आलम यह है कि प्रखंड में कार्यरत कर्मी द्वारा बिना जांच के ही 150 मतदाताओं के नाम वोटर लिस्ट में जोड़ने को कहा गया। दवाब में आकर बीएलओ ने एसडीओ सह निबंधन पदाधिकारी को आवेदन देकर शिकायत की है। सदर एसडीओ नीरज कुमार को दिए गए आवेदन में भाग संख्या-235 के बीएलओ नाज परवीन ने कहा है कि वे अपने वार्ड के मतदाता सूची का विखंडण कर कागजात जमा करने के लिए प्रखंड कार्यालय गयी थी। इसी दौरान उसे पता चला कि उसके वार्ड में 150 मतदाताओं का नाम आनलाइन किया गया है। इसकी जानकारी उसे तब हुई जब वह बैठक में भाग लेने के लिए पहुंची। वहां कार्यरत तेजनारायण दास ने उसे 150 मतदाताओं की सूची दिया और उसे वार्ड संख्या- 25 में जोड़ने को कहा। वे सभी नामों को पहचान के बिना ही वार्ड में शिफ्ट कर दिया। वे न तो वोटर को पहचानती है और न ही कोई कागजात उनके पास है। उन्होंने मामले की जांच का आग्रह किया है। वहीं तेजनारायण दास ने बताया कि वार्ड 25 के वोटरों को साजिश के तहत अन्य वार्डों में संभावित प्रत्याशी की मदद से उनके संबंधी बीएलओ ने शिफ्ट कर दिया है। उन सब के नामों को अपने वार्ड में भेजने की प्रक्रिया की जा रही है।


बीएलओ ने बताया कि नगर परिषद चुनाव को लेकर प्रत्याशियों ने तैयारी शुरू कर दी है। वे गांव व देहातों में रहने वाले अपने परिजनों के नाम बीएलओ की मदद से वोटर लिस्ट में दर्ज करा दिए हैं। अगर वोटर लिस्ट की जांच गहराई से किया जाय तो इसका खुलासा हो जाएगा। वहीं बीएलओ की हालत यह है कि वे बिना जांच के ही आंख बंदकर नाम जोड़ने व हटाने का काम कर रहे हैं। कोट मतदाता सूची में नाम जोड़ने और हटाने का कार्य बीडीओ के निर्देश पर बीएलओ द्वारा किया जा रहा है। शिकायत पर कार्रवाई करते हुए मामले की जांच कराई जाएगी। -नीरज कुमार, सदर एसडीओ

अन्य समाचार