कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

41 दिन बाद जिले में फिर सामने आए कोरोना के दो नये मामले

संवाद सहयोगी, किशनगंज : कोरोना संक्रमण के दो नये मामले गुरुवार को सामने आया है। संक्रमण का मामला सामने आते ही विभागीय सतर्कता बढ़ा दी गयी है। इससे पहले बीते 12 मई को संक्रमण का मामला जिले में सामने आया था। इसके लगभग 41 दिन के बाद शहरी इलाके के सदर अस्पताल स्थित ट्रामा सेंटर की महिला कर्मी और माता गुजरी मेडिकल कालेज के महिला डाक्टर संक्रमित पाई गयी है। प्रभावित क्षेत्र में सघन जांच अभियान का संचालन करते हुए वंचितों के टीकाकरण पर विशेष जोर दिया जा रहा है। यह बातें सिविल सर्जन डा. कौशल किशोर ने कही।


उन्होंने कहा कि संक्रमण के मामलों पर प्रभावी नियंत्रण को लेकर सतर्कता पूर्व से बरकरार है। दो संक्रमण का मामला सामने आने के बाद संभावित अन्य मरीजों की खोज व इस पर प्रभावी नियंत्रण को लेकर संबंधित अधिकारियों को जरूरी दिशा-निर्देश दिए गए हैं। अधिकारियों को कोरोना जांच की संख्या बढ़ाने के साथ प्राथमिकता के आधार पर वंचितों का टीकाकरण सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया है। कोरोना वायरस की रफ्तार एक बार फिर से राज्य समेत पूरे देश में तेज हुई है। फिलहाल जिले में प्रिकाशन डोज के टीका से वंचित लोगों को टीकाकृत करने के लिए विभाग ने अलग रणनीति तैयार की है। गौरतलब है कि जिले में बड़ी संख्या में लोगों टीका की दोनों डोज ले चुके हैं। सदर अस्पताल उपाधीक्षक डा. अनवर आलम ने कहा कि ट्रामा सेंटर की महिला कर्मी की जांच में संक्रमण की पुष्टि हुई है। मरीज को जरूरी दवाओं का किट उपलब्ध कराते हुए होम आइसोलेशन में रहने की सलाह दी गई है। जिले में कोरोना के मामलों का पता लगाने के लिए अब तक 14 लाख लोगों की जांच हुई है। कोरोना टीकाकरण अभियान के तहत अब तक 11.94 लाख लोगों को टीका का पहला, 10.20 लाख लोगों को टीका का दूसरा और 43,879 लोगों को बूस्टर डोज का टीका लगाया गया है। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डा. देवेन्द्र कुमार ने कहा कि जिले के शत प्रतिशत लोगों को कोरोना का टीका लग जाए। इसे लेकर लगातार प्रयास किया जा रहा है। जिले में शत प्रतिशत टीकाकरण हो जाने से सभी लोग काफी हद तक कोरोना से सुरक्षित हो जाएंगे। इसलिए इसे सामाजिक जिम्मेदारी समझकर इसमें सभी व्यक्ति अपना योगदान दें।

अन्य समाचार