कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

सतर्क रहिए, जिले मे झपटमार गिरोह सक्रिय

संवाद सहयोगी, किशनगंज : अगर आप महिला हैं और सोने का चेन पहनकर बाहर निकलती हैं तो अब चेन पहनना छोड़ दीजिए। शहर में सक्रिय झपट्टामारों की नजर आपकी सोने की चेन और राहगीरों के बात करते जाते मोबाइल फोन पर टिकी हुई है। टाउन थाने की पुलिस आपकी चेन की सुरक्षा कर पाने में सक्षम नहीं है। ऐसे में छिनतई के दौरान कोई बड़ी हादसा ना हो जाए, इसलिए आपको सचेत रहने की जरूरत है। ऐसा झपट्टामार गिरोह की सक्रियता और पुलिस की शिथिलता से प्रतीत हो रहा है।

गुरुवार को शहर के एमजीएम रोड व अस्पताल रोड से गुरुवार को दो महिलाओं के गले से दिनदहाड़े बाइक सवार बदमाश आराम से चेन झपटामारकर फरार हो गया और महिला बेबस होकर देखती रह गई। ऐसा ही घटना शहर के कई मोहल्ले से आ रही है। बीते कुछ दिनों में ऐसे झपट्टामार गिरोह की सक्रियता शहरी क्षेत्र में बढ़ गया है।

शहर में लगातार चेन छिनतई के साथ मोबाइल झपट्टामारी के मामले सामने आ रहे हैं। घटना यह साबित कर रहा है कि सदर थाने की पुलिस की सक्रियता सुरक्षा के लिहाज से सड़क पर नहीं के बराबर है। आम लोगों द्वारा किसी बदमाश के पकड़े जाने की सूचना पर पुलिस उसे गिरफ्तार कर अपनी पीठ थपथपाती है और उसपर कई केस देकर अनुसंधान समाप्त कर लेती है। बुधवार को भी अपराधियों ने दो चेन झपट्टामार की घटना को अंजाम दिया। खगड़ा मस्जिद के पास बदमाशों ने एक लड़की के गले से चेन छिनतई का प्रयास किया, लेकिन चेन लेकर भागने में असफल रहे। वहीं डेमार्केट में एक महिला के गले से चेन झपट्टामारकर फरार हो गया था। बीते मंगलवार को भी बाल मंदिर स्कूल के सामने से अपराधियों ने चेन छिनतई की घटना को अंजाम दिया था। उससे एक दिन पहले सोमवार की शाम में टहलने के क्रम में न्यायाधीश के गले से बदमाशों ने चेन छिनतई का प्रयास किया था। बीते कुछ दिनों में शहर में चेन झपट्टामार गिरोह का आतंक बढ़ गया है। बाइकर्स गैंग के अपराधी चेन झपटकर पलक झपकते फरार हो जाते हैं। शहर के लगभग सभी इलाकों में झपट्टा मारने की घटनाएं लगातार हो रही हैं। जब कि शहर को क्राइम कंट्रोल करने के लिए चप्पे-चप्पे पर सीसीटीवी लगाए गए थे। इसके बावजूद क्राइम के ग्राफ में कोई कमी नहीं दिख रहा है। शहर में अपराधी कभी बैंकों से रुपये निकासी कर निकलने वाले ग्राहकों को रैकी कर लूट की वारदात को अंजाम देते हैं। इस तरह की घटनाओं पर रोक लगाना पुलिस के लिए चुनौती साबित हो रहा है।

अन्य समाचार