कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

विद्यालय के अभाव में शिक्षित नहीं हो पा रहे कछुआ गांव के बच्चे

अजय कुमार अजय, चानन (लखीसराय)। बच्चों को शिक्षित करने के लिए सरकार करोड़ों रुपये मासिक खर्च रही है। वंचित बच्चों को विद्यालय से जोड़ने के लिए अनेक कार्यक्रम का आयोजन भी कर रही है। एक भी बच्चे विद्यालय जाने से वंचित नहीं रहे इसके लिए प्रोत्साहन स्कीम भी संचालित है। गांव से लेकर टोले तक में विद्यालयों की स्थापना की गई है। वहीं नक्सल प्रभावित चानन प्रखंड की संग्रामपुर पंचायत अंतर्गत कछुआ बस्ती गांव के बच्चों को अब तक विद्यालय नसीब नहीं हुआ है। यहां के बच्चे पढ़ने को लालायित हैं। अभिभावक भी उन्हें विद्यालय भेजना चाहते हैं। लेकिन, प्रारंभिक शिक्षा से बच्चे वंचित हो रहे हैं। कछुआ गांव में लगभग 120 घरों में पांच सौ की आबादी रहती है। बच्चों की संख्या 150 है जिसमें 40 से 50 बच्चे प्राथमिक विद्यालय अवधपुर में पढ़ने जाते हैं जो गांव से चार किमी की दूरी पर है। इतनी दूर जाकर प्रथम से लेकर चतुर्थ वर्ग के बच्चों के लिए पढ़ना आसान नहीं है।


---
कछुआ से दूर-दूर है विद्यालय कछुआ संग्रामपुर पंचायत अंतर्गत एक गांव है। यहां अनुसूचित जाति के लोग रहते हैं। इस पंचायत संग्रामपुर, भंडार व शिवडीह गांव में कुल पांच प्राथमिक विद्यालय व एक उच्च माध्यमिक विद्यालय भंडार में है। मध्य और माध्यमिक विद्यालय की शिक्षा तो कुछ दूर जाकर भी ली जा सकती है लेकिन प्राथमिक शिक्षा के लिए दूर जाना आसान नहीं है। कछुआ गांव से प्राथमिक विद्यालय अवधपुर पहाड़ी क्षेत्र की दूरी चार किलोमीटर है। जबकि उच्च माध्यमिक विद्यालय भंडार कि दूरी आठ किलोमीटर एवं प्लस टू उच्च विद्यालय मननपुर कि दूरी दस किलोमीटर है। इन दूरियों की वजह से अधिकांश बच्चे विद्यालय जाने से वंचित हो रहे हैं।
----
कहते हैं बीडीओ कछुआ गांव में विद्यालय खोलने को लेकर कोई आवेदन उनके कार्यालय को प्राप्त नहीं हुआ है। आवेदन आने पर विभाग को भेजा जा सकता है। इसके लिए पंचायत स्तर से प्रतिवेदन भेजना चाहिए। विनोद कुमार सिंह, बीडीओ, चानन।
----
कहते हैं बीईओ प्रखंड शिक्षा कार्यालय में कछुआ गांव में विद्यालय खोलने के लिए आवेदन प्राप्त हुआ है। उक्त आवेदन को डीपीओ कार्यालय लखीसराय भी भेजा गया है। आदेश आने के बाद विद्यालय की स्थापना की जा सकती है। इसके बाद शिक्षकों का पदस्थापन या प्रतिनियोजन करके बच्चों के लिए गांव में शिक्षा की व्यवस्था की जाएगी। अवधेश प्रसाद ठाकुर, बीईओ, चानन।
---- कहते हैं मुखिया
कछुआ गांव में विद्यालय की स्थापना करने के लिए पंचायत समिति की बैठक में प्रस्ताव लिया गया है। जिले के पदाधिकारी की स्वीकृति का इंतजार है। विद्यालय खोलने के लिए कछुआ गांव के ग्रामीण ने वर्ष 2016 में ही जमीन राज्यपाल के नाम किया है। दीपक सिंह, मुखिया, संग्रामपुर पंचायत, चानन।

अन्य समाचार