कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

विद्यालयों में मना सुरक्षित शनिवार कार्यक्रम

संवाद सूत्र, सोनो (जमुई): मुख्यमंत्री विद्यालय सुरक्षा कार्यक्रम के तहत हरेक शनिवार को स्कूली बच्चों को आपदा प्रबंधन के बारे में जानकारी दी जाती है। सुरक्षित शनिवार के वार्षिक कैलेंडर के अनुसार यह कार्यक्रम आयोजित होता है। मुख्यमंत्री विद्यालय सुरक्षा कार्यक्रम के तहत शनिवार को प्रखंड के सभी प्राथमिक एवं मध्य विद्यालय में अशुद्ध पेयजल से होने वाले रोगों व उससे बचाव के बारे में बताया गया। फोकल शिक्षकों ने बताया कि बताया कि दूषित पानी के सेवन से चर्म रोग, पेट रोग, पीलिया, हैजा, दस्त, टाइफाइड बुखार आदि रोग हो सकते हैं। गर्मी व वर्षा के दिनों में इनके होने का खतरा ज्यादा होता है। उन्होंने कहा कि पीने के लिए हमेशा स्वच्छ पानी का प्रयोग करें। तालाब के किनारे लगे हैंडपंपों से पानी न पीएं। पीने वाले पानी को हमेशा ढंककर रखें। वर्षा के दिनों में पानी को उबाल कर पीएं। समय-समय पर कुएं में दवाई डालते रहें। कुछ भी खाने से पहले अपने हाथ अच्छी तरह से धोएं। बाजार से खुले में बिकने वाले चीजों को सेवन न करें। उन्होंने कहा कि पानी की टंकियों में ढक्कन को लगाकर रखें। घर में पड़े कूलर का पानी सप्ताह में कम से कम एक बार बदल दें। छत पर टायर या टूटे हुए गमले न रखें जिनमें वर्षा का पानी जमा हो। उन्होंने बताया कि मच्छर से बचने के लिए क्रीम या रेपलेंट का प्रयोग करें। अपने शरीर को पूरी तरह से ढक कर रखें। इस मौके पर शिक्षक पंकज कुमार राम, विपिन कुमार सिंह, प्रणव शेखर, संतोष कुमार मिश्रा, वशिष्ठ नारायण झा, धर्मेंद्र कुमार सिंह आदि मौजूद थे।


अन्य समाचार