कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

रंजीत रजक ने पत्नी के लिए खरीदा 51 लाख का भूखंड तो ससुर के लिए लग्जरी कार

राजीव कुमार, पूर्णिया। बीपीएससी परीक्षा में फर्जीवाड़ा कर अकूत संपति बनाने वाले डीएसपी रंजीत रजक के कारनामों का खुलासा लगातार आर्थिक अपराध इकाई द्वारा किया जा रहा है। शनिवार को आर्थिक अपराध इकाई की चार टीमों ने एक साथ डीएसपी रंजीत रजक के चार ठिकानों पर छापेमारी की ताकि उनके द्वारा जमा की गई अकूत संपति के बारे में जानकारी मिल सके।

आर्थिक अपराध इकाई ने रंजीत रजक के पटना के वीणा बिहार नीति बाग कालोनी के किराया का आवास फ्लैट नंबर 202 एवं कटिहार जिले के मनिहारी थाना स्थित हंसवर स्थित पैतृक घर हैप्पी फ्यूल सेंटर एवं अररिया के महादेव चौक स्थित ससुराल में छापेमारी की गई। आर्थिक अपराध इकाई का छापेमारी अभियान शनिवार की देर शाम तक जारी रहा। प्रारंभिक आकलन में डीएसपी रंजीत रजक का आय से अधिक संपति 81 फीसद अधिक पाई गई है। डीएसपी के पास आय से अधिक 63 लाख 79 हजार से अधिक का मामला आर्थिक अपराध इकाई ने पता लगाया है। उसके चार ठिकानों पर छापेमारी के बाद इसमें और बहुत ज्यादा वृद्धि होने की संभावना है। आर्थिक अपराध इकाई की जांच में इस बात का खुलासा हुआ है कि डीएसपी रंजीत रजक ने अपनी कमाई को छिपाने के लिए अपनी बहन के नाम से हैप्पी फ्यूल सेंटर खोला लेकिन इसके खोलने में मोटी रकम का निवेश डीएसपी रंजीत रजक द्वारा किया गया। डीएसपी रंजीत रजक बिहार लोक सेवा आयोग की 56 वीं प्रतियोगिता परीक्षा पास कर दस फरवरी 2015 को पुलिस उपाधीक्षक के पद पर योगदान दिया था। इसके पूर्व रंजीत रजक सेंट्रल बैंक आफ इंडिया में प्रोवेशनरी आफिसर के रूप में असम में पदस्थारित थे। जांच में यह भी खुलासा हुआ कि सेवा में आने के पहले इनके पास पैतृक संपति के अलावा कोई चल एवं अचल संपति नहीं थी लेकिन फर्जीवाड़ा कर इनके द्वारा अकूत संपति बनाई गई।
मुहर्रम के दौरान विधि-व्यवस्था को लेकर एसपी ने किया समीक्षा बैठक यह भी पढ़ें
-------------------------------------------
डीएसपी ने पटना में खरीदा पत्नी के नाम लाखों का भूखंड
-----------------------------------------------
आर्थिक अपराध इकाई के शिकंजे में फसे डीएसपी रंजीत रजक ने अवैध कमाई से पटना में 51 लाख से अधिक मूल्य के जमीन का आवासीय भूखंड खरीदा। डीएसपी ने यह आवासीय भूखंड अपनी पत्नी के नाम से पटना के धनौत मोहल्ले में थाना रूपसपुर में खरीदा। 6. 3 डिसमिल के इस भूखंड को खरीदने के लिए डीएसपी ने चार लाख 94 हजार 330 रूपये निबंधन शुल्क के रूप में दिया। इसके बाद अपनी पत्नी के नाम से अपने कटिहार के हंसवर स्थित गांव में 29 डिसमिल का एक आवासीय भूखंड खरीदा जिसकी कीमत 5. 90 लाख एवं इसके निबंधन शुल्क के रूप में 71750 रूपये का भुगतान किया गया। इसके अलावा डीएसपी रंजीत रजक ने अपनी मां के नाम से गांव में ही 28. 5 डिसमल का एक आवासीय भूखंड खरीदा जिसकी कीमत लाखों में बताई जा रही है। इसके अलावा उनके अपने कई रिश्तेदारों के नाम भी जमीन खरीदने के कागजात आर्थिक अपराध इकाई को मिला है, जिसकी जांच की जा रही है। मां द्वारा खरीदी गई जमीन का निबंधन शुल्क के रूप में 1. 90 लाख रूपये का भुगतान किया गया।
---------------------------------------
ससुर के नाम से डीएसपी ने खरीदी लग्जरी कार
-------------------------------------------
आर्थिक अपराध इकाई की जांच में यह भी खुलासा हुआ है कि डीएसपी रंजीत रंजक ने अपने अररिया के रहने वाले ससुर के नाम से टोयेटा, इनोवा क्रिस्टा लग्जरी गाड़ी खरीदी। इस गाड़ी की कीमत भी लगभग बीस लाख रूपये हैं। इसके अलावा ससुराल पक्ष के कई लोगों के नाम से खाते से मोटी रकम हस्तातांरण करने की जानकारी भी मिली है। डीएसपी रंजीत रंजक उसकी पत्नी के नाम से कई बैंक की शाखाओं में कई बैंक खाते मिले हैं, इसमें मोटी रकम जमा है। मोबाइल से मोटी रकम एक दूसरे स्थान पर भेजने की भी जानकारी मिली है।

अन्य समाचार