कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

बंजरिया प्रखंड के पूर्व नाजिर पर छह लाख गबन और चोरी मामले में प्राथमिकी नहीं

मोतिहारी । प्रखंड के पूर्व नाजिर अभिषेक कुमार पर एनआर के 6 लाख रुपये गबन के साथ ही प्रखंड कार्यालय से टीवी,प्रिटर एवं अन्य महत्वपूर्ण दस्तावेज चुराकर ले जाने को लेकर शिकायत के पंद्रह दिन बीत जाने के बाद भी थाने में प्राथमिकी दर्ज नहीं हो पाई है। गौरतलब हो कि बीडीओ सुनील कुमार गौंड द्वारा स्थानीय थाने में 22 जुलाई को इसके लिए आवेदन दिया गया था। थाने को दिए गए आवेदन में बीडीओ ने लिखा था कि गुरुवार की रात में पूर्व प्रखंड नाजिर प्रखंड का ताला तोड़कर कार्यालय से टेलीविजन, प्रिटर व अन्य महत्वपूर्ण कागजात ले गए। इसके अलावा उन्होंने पंचायत चुनाव का जो एनआर कटा है उसका छह लाख रुपये अबतक जिला नजारत में जमा नहीं कराया गया। बावजूद इसके मामले में प्राथमिकी दर्ज नहीं होने की बात लोग बड़ी सेटिग मान रहे हैं।


इनसेट
आठ दिसंबर-21 को ही हुआ था पंचायत चुनाव
बंजरिया प्रखंड में 8 दिसंबर को ही पंचायत चुनाव संपन्न हुआ था। 10 दिसंबर -21को मतगणना हुई थी। चुनाव के दो माह पूर्व यानी अक्टूबर से ही एनआर कटने का काम शुरू हो गया था। यानी अक्टूबर 2021 में ही उम्मीदवारों ने एनआर कटवाना शुरू कर दिया था। चुनाव के बीते हुए सात माह से ज्यादा समय हो गया है फिर भी एनआर की राशि जमा न होना प्रखंड प्रशासन पर सवालिया निशान खड़ा करता है।
-----------
इनसेट
एक माह पूर्व हुआ नाजिर का तबादला
अब जबकि एक माह पूर्व नाजिर का तबादला पहाड़पुर प्रखंड में हो गया है। नाजिर ने अभी तक चार्ज भी नहीं दिया है।चार्ज न देने के कारण बहुत सारा विकासात्मक कार्य भी ठप पड़ा हुआ है। इस संबंध में थानाध्यक्ष संदीप कुमार ने बताया कि आवेदन में कुछ त्रुटि होने के कारण उसे लौटा दिया गया था, आवेदन अबतक दोबारा थाने को नहीं भेजा गया है। इससे यह स्पष्ट होता है कि परदे के पीछे सेटिग का खेल चल रहा है। जब इस संबंध में बीडीओ सुनील कुमार गौंड से बात करने का प्रयास किया गया तो वे फोन नहीं उठा पाए।

अन्य समाचार