कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

सारण जिलास्तरीय टीम ने तरैया के तीन निजी चिकित्सालय को किया सील

सारण जिलास्तरीय टीम ने तरैया के तीन निजी चिकित्सालय को किया सील

सारण। तरैया बाजार पर अवैध रूप से संचालित नर्सिंग होम, पैथोलोजिकल जांच केंद्र एवं अल्ट्रासाउंड जांच केंद्रों की जांच गुरुवार को सिविल सर्जन डा सागर दुलाल सिन्हा के निर्देश पर गठित जिला स्तरीय टीम ने की। टीम का नेतृत्व अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डा हरीश चंद्र प्रसाद कर रहे थे। इनके साथ गैर संचारी रोग पदाधिकारी डा भूपेंद प्रसाद, इसुआपुर पीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डा विजय किशोर प्रसाद, तरैया प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डा श्रीनाथ प्रसाद, बीडीओ कृष्ण कुमार सिंह, राजस्व पदाधिकारी गोपाल प्रसाद के साथ ही तरैया के थानाध्यक्ष मो. शोएब आलम दल बल के साथ मौजूद रहे। जांच टीम ने तरैया में अवैध रूप से संचालित तीन निजी चिकित्सालय को सील कर दिया। जांच व छापेमारी टीम के पहुंचने की खबर सुनते ही निजी नर्सिंग होम एवं जांच घर के संचालकों में भगदड़ मच गई। आलम यह कि तरैया थाना रोड स्थित स्वास्तिक हॉस्पिटल में जब छापेमारी की गई तो हॉस्पिटल में बाहर से ताला लगाकर सभी फरार हो गए थे, लेकिन जब छत से होकर हास्पिटल में प्रवेश किया गया तो देखा गया कि अंदर दो महिला मरीज बेड पर हैं। उन्हें चिकित्सक व उनके कर्मी अंदर बंद कर गायब हो गए थे। उन्हें सुरक्षित बाहर निकलवा कर सील कर दिया गया। इसके बाद तरैया देवरिया रोड में स्थित श्रीराम लेप्रोस्कोपिक सेंटर के अंदर जाकर देखा गया तो हास्पिटल का वार्ड, डाक्टर केबिन, ओटी खाली पड़ा हुआ था। छापेमारी की भनक मिलते ही सभी मरीजों को वहां से हटा दिया गया था। इस दौरान मजिस्ट्रेट की उपस्थिति में डाक्टर की केबिन को सील कर दिया गया। इसी रोड में त्रिमूर्ति सेवा सदन खुला हुआ था। इसकी जांच करते हुए चेक लिस्ट तैयार किया गया। वहां उपस्थित चिकित्सक को आदेश दिया गया कि हास्पिटल संचालन से संबंधित प्रमाणपत्र के साथ चिकित्सक व उनके कर्मियों के प्रमाणपत्र एक सप्ताह के अंदर सीएस के सुपुर्द कर जांच करा लें। इसी रोड में स्थित पवन अल्ट्रासाउंड खुला मिला तो उसकी भी जांच की गई। जिनके संचालक को आदेश दिया अल्ट्रासाउंड संचालन से संबंधित सभी प्रमाण पत्र सीएस से जांच करा लें। वही रामबाग स्थित जीवनदान हास्पिटल को सील व ब्रिम्स हास्पिटल को नोटिस चिपका कर उन्हें निर्देशित किया गया कि इसके संचालन से संबंधित प्रमाणपत्र जांच कराएं। उन्होंने बताया कि तरैया में अवैध रुप से संचालित 25 नर्सिंग होम, 10 पैथोलॉजी जांच केंद्र एवं 07 अल्ट्रासाउंड जांच केंद्र है। सभी को नोटिस चस्पा कर निर्देश दिया गया कि संचालन से संबंधित प्रमाणपत्र सीएस से जांच कराए अन्यथा फर्जी पाए जाने पर उनके विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

अन्य समाचार