कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

गर्भाशय कांड के पीड़िताओं को मिलेगा मुआवजा

गर्भाशय कांड के पीड़िताओं को मिलेगा मुआवजा

समस्तीपुर। उच्च न्यायालय के निर्देश पर गर्भाशय कांड की पीड़िताओं को मुआवजा मिलेगा। इसको लेकर संबंधित अंचलाधिकारियों के पास खाता नंबर जमा करने का निर्देश दिया गया हैं। 40 वर्ष से कम आयु वाली पीड़िताओं को ढाई लाख रुपये की राशि दी जाएगी। जबकि उससे ऊपर आयु की पीड़िताओं को 1.50 लाख रुपये दिए जाने का निर्देश दिया गया है। यह राशि पूर्व में दिए गए पचास हजार रुपये की राशि कटौती कर मिलेगी। बता दें कि वर्ष 2013 में जिले में गर्भाशय कांड उजागर हुआ था। बीमा राशि हड़पने के लिए कई निजी अस्पतालों ने गलत तरीके से महिलाओं का गर्भाशय निकाल दिया था। जांच के दौरान महिला की जगह पुरुषों के भी गर्भाशय निकालने के चौंकाने वाले मामले सामने आये थे। सरकार ने आईसीआईसी लोम्बार्ड के द्वारा बीपीएल परिवार का स्वास्थ्य बीमा कराया गया था। जिसमें 30 हजार रुपये तक की राशि स्वास्थ्य पर खर्च करने का आदेश दिया गया था। कंपनी के द्वारा इसके लिए कई निजी अस्पतालों को सूचीबद्ध किया गया था। जिसमें समस्तीपुर में भी करीब एक दर्जन निजी अस्पताल शामिल थे। इन निजी अस्पतालों के द्वारा गलत तरीके से गर्भाशय निकालने का जैसे ही मामला सामने आया, तत्कालीन जिलाधिकारी कुंदन कुमार ने इसकी वृहद जांच शुरू करा दी। शहर के पटेल मैदान में तीन दिवसीय शिविर लगाकर पीड़ितों को बुलाकर उनका बयान दर्ज किया। इसमें 316 पीड़िताओं को चिन्हित किया गया था, जिनका गलत तरीके से गर्भाशय निकाल दिया गया था। जिलाधिकारी ने यह रिपोर्ट राज्य एवं केन्द्र सरकार को भी भेजी थी। वहीं, फर्जीवाड़ा करने वाले अस्तपतालों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। यह मामला उच्च न्यायालय में पहुंच गया। पिछले दिनों उच्च न्यायालय ने इस मामले की जांच करने का जिम्मा सीबीआई को सौंप दिया है। साथ ही सभी पीड़िताओं को उचित मुआवजा राशि देने का निर्देश राज्य सरकार को दिया है।
समस्तीपुर रेल मंडल के 32 स्टेशनों पर लगेगी वाटर वेंडिंग मशीन यह भी पढ़ें
जिला प्रशासन से मिली जानकारी के अनुसार कुल 316 में से 240 पीड़िताओं को पूर्व में पचास-पचास हजार रुपये की राशि बतौर मुआवजा दिया जा चुका है। उच्च न्यायालय के निर्देश पर अब सभी पीड़िताओं को राशि मिलेगी। इसमें 40 वर्ष से कम आयु की जिन पीड़िताओं का गर्भाशय निकाला गया था, उसे ढाई लाख रुपये की राशि दी जाएगी। इसमें पहले जिन्हें पचास हजार की राशि दी गई थी, वह राशि काटकर भुगतान की जाएगी। इसी तरह 40 से अधिक उम्र की पीड़िताओं को डेढ़ लाख रुपये की राशि दी जाएगी। अंचलाधिकारियों के द्वारा पीड़िताओं से संपर्क साधकर उनका बैंक खाता लिया जा रहा है, जिससे उनके खाते में राशि का भुगतान किया जा सके। यह कार्य अभियान चलाकर किया जा रहा है।
वर्जन :
विशेष अभियान चलाकर पीड़िताओं का बैंक खाता संख्या लिया जा रहा है। सभी अंचलाधिकारियों को इसको लेकर निर्देश दिए गए हैं। सभी पीड़िताओं को इस सप्ताह के अंत तक हर हाल में भुगतान कर दिया जाना है।
आकाश, सहायक निदेशक, सामाजिक सुरक्षा, समस्तीपुर।

अन्य समाचार