कोरोना (India)
कुल केस:
स्वस्थ हुए :
मौत:

30 लाख से अधिक बकाए पर दो गांवों की बिजली कटी

- चौडीहा पंचायत की पद्मावत और इकेरिया गांव तीन दिनों से अंधेरे में
सीजन सेल में लैपटॉप और मोबाइल पर पाए 50 % तक डिस्काउंट, click करे लिंक पर



- विद्युत व्यवस्था पर आधारित दैनिक कार्य हो रहा प्रभावित
- 30 से 35 लाख रुपये के आसपास बिजली बिल बकाया
संवाद सहयोगी, जमुई : सदर प्रखंड क्षेत्र के चौडीहा पंचायत का पद्मावत और इकेरिया गांव तीन दिनों से अंधेरे में डूबा है। बिजली नहीं होने से ग्रामीणों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। विद्युत व्यवस्था पर आधारित दैनिक कार्य प्रभावित हो रहा है।
विद्युत विभाग के अधिकारियों की माने तो इन दोनों गांवों के लोगों ने कनेक्शन लेने के पश्चात से ही बिजली बिल का भुगतान नहीं किया है। कई बार बिजली बिल का भुगतान करने के लिए कहा गया, लेकिन ग्रामीणों ने इस और ध्यान नहीं दिया। कुछ ग्रामीणों ने बिजली बिल में गलती की शिकायत की थी। जिसके पश्चात विभाग द्वारा बिल में सुधार किया गया। इसके बाद भी किसी ग्रामीण ने भुगतान नहीं किया। जिसके कारण 23 नवंबर से दोनों गांवों की बिजली काट दी गई है।

-------
औसतन 10 हजार से अधिक बिल बकाया
सहायक विद्युत अभियंता दिलीप कुमार ने बताया कि इन दोनों गांव के लोगों पर औसतन दस हजार रुपये से अधिक बिजली बिल बकाया है। दस हजार या उससे अधिक बिल बकाया होने पर लाइन काट देने का आदेश दिया गया है। कई बार प्रयास किया गया कि किस्तों में ही बिल का भुगतान कर दें, लेकिन इस दिशा में कोई सकारात्मक पहल नहीं की। जिसके कारण इन दोनों गांवों की बिजली आपूर्ति बंद करनी पड़ी है। इन दोनों गांव के लोगों पर 30 से 35 लाख रुपये के आसपास बिजली बिल बकाया है। जब तक विद्युत विपत्र का भुगतान नहीं किया जाएगा, तब तक बिजली की आपूर्ति बहाल करना संभव नहीं है।
--------
विभाग के अधिकारी हैं जिम्मेदार
पद्मावत और इकेरिया के ग्रामीणों की माने तो बिजली कटने के लिए विभाग के अधिकारी और कर्मी जिम्मेदार हैं। ग्रामीण उमाशंकर राम, कार्तिक मंडल, प्रहलाद मंडल, वजीर मांझी, सुरेंद्र बिद, किशोरी बिद, रामप्रवेश पासवान, बासुदेव पासवान ने बताया कि विभाग की ओर से राजस्व वसूली के लिए कोई प्रयास नहीं किया गया और समय पर बिजली बिल भी नहीं भेजा जाता था। समय से बिजली बिल भेजा जाता और वसूली के लिए प्रयास किया जाता तो हमलोग सही तरीके से हर हाल में बिजली बिल जमा कर देते। इसमें सरासर विभाग के अधिकारियों और कर्मियों की लापरवाही है। जल्द ही बिजली चालू नहीं की गई तो हम लोग सड़क पर उतर कर आंदोलन करने को बाध्य हो जाएंगे। इसके लिए विभाग के अधिकारी और कर्मी जिम्मेदार होंगे।
--------
बिल भुगतान नहीं करने पर काटी गई डोकली और कंचनपुर गांव की बिजली
संवाद सूत्र, सोनो(जमुई): राजस्व वसूली को लेकर बिजली विभाग द्वारा इन दिनों लगातार छापेमारी अभियान चलाया जा रहा है। बिल जमा नहीं करने वाले उपभोक्ताओं के जहां एक ओर कनेक्शन काटे जा रहे हैं, वहीं दूसरी ओर बिजली चोरी के खिलाफ भी विभाग छापेमारी कर केस दर्ज करने की कार्रवाई कर रही है। शहरी क्षेत्र हो या ग्रामीण क्षेत्र, राजस्व वसूली को लेकर बिजली विभाग सख्ती बरत रही है। इस अभियान में बिजली विभाग के कनीय अभियंता रौशन कुमार के नेतृत्व में टीम गठित कर प्रतिदिन कहीं न कहीं छापेमारी की जा रही है। इसी कड़ी में बिजली विभाग द्वारा गुरुवार को डोकली और कंचनपुर गांव की बिजली आपूर्ति बंद कर दी गई। जेई ने बताया कि बार-बार निर्देशित करने के बावजूद यहां के उपभोक्ताओं द्वारा बकाया बिजली बिल का भुगतान नहीं किया जा रहा था। इसलिए गुरुवार को डोकली और कंचनपुर गांव की बिजली सप्लाई बंद कर दी गई है।

अन्य समाचार